Sunday, December 18, 2016

अबे पागल हो गया है

अबे पागल हो गया है -
ये तख्ते - दिल्ली है .
सरकार नहीं बनी अभी
कुर्सी कहाँ मिली है .

कैसे जोड़ बिठाऊं -
बप्पा मानेगे नहीं
अम्मा को ही पटाऊँ
मुमकिन हैं एकबार तो
सीएम बन जाऊं .

पले पलाये सांड -
हम जैसे - प्रायोजित
सरकारी भांड -
कहाँ मिलते हैं .

हम तो मुफ्त में
गोद जाने को तैयार है
बस आपसे इल्तिजा -
इतनी सी मेरी सरकार है .

Friday, December 16, 2016

आँखमें शोले भी होने चाहिए .

साधनों से जीतना मुश्किल बड़ा
हौसले दिलमे भी होने चाहियें
भौंकने से बात बनती ही नहीं -
शब्द दिल तोले भी होने चाहिए .

यूँ मज़ा परवाज़ का आता नहीं
पंख फिर खोले भी होने चाहियें
आग की बरसात होनी चाहिए
आँखमें शोले भी होने चाहिए .


चुभन फूलों से  नहीं होती सनम
तीर जैसी नौक होनी चाहिए .
कुछ नज़र से बात होनी चाहिए
शब्द बिन बोले भी होने चाहिए


Wednesday, December 14, 2016

संसदी सन्त सब ठाली मिले

कुवांरे 'माल' में ढूंढे हैं दिल
कहीं कोई हूर मतवाली मिले
महूर्त लग्न का निकला नहीं
विधुरको कैसे घरवाली मिले

गिरहकट दे रहा सबको दुआ
किसीकी जेब ना खाली मिले
और सरकार की हसरत यही
मिले राहत मगर जाली मिले

भरोसा अब किसी का क्या करें
मिले जो भी वो मवाली मिले
मेरी बस अर्ज़ इतनी दोस्तों
करू अच्छा नहीं गाली मिले

गया असबाब अब मिलता नहीं
ख़ज़ाने के डकैत रखवाली मिले
सफाई की वही करते हैं बात -
जिनकी जमुनामें जा नाली मिले

एक भी पौद फूलों की नहीं
चमनमें सब हमें माली मिले
गुज़ारे क्या करें हम दोस्तों
करेंसी नोट सब जाली मिले

गटर जैसी नदी बहती रही
नहाते लोग बस खाली मिले
फावड़े ले सभी तो आ गए
न कोई देश में नाली मिले

बोयें क्या एक भी दाना नहीं
जोतते खेत सब हाली मिले
भरोसा अब किसी पर है नहीं
संसदी सन्त सब ठाली मिले

Sunday, December 11, 2016

अंधेरों से रार भी है

रास्ते तकते इरादे -
भटकनों से प्यार भी है .
गलत अंदाज़े लगा मत
घर भी है घरबार भी है .

थोड़ी दिल में है कसक
और थोडा एतबार भी है
मंजिले खोयी कभी ना -
मंजिलों से प्यार भी है .

धूप छाई है जमी पर -
शाम खोयी है यहीं पर
रात की बातें करों मत
यामिनी गद्दार भी है .

चाँद तकता है जहाँ पर
चांदनी फैली कहाँ पर .
उजालों से दोस्ती है -
अंधेरों से रार भी है .