Friday, January 6, 2017

धूपमे छाया हुआ हूँ

मूलधन उतरा नहीं जी
ब्याज में आया हुआ हूँ .
चौंच तोते की लगी है -
फल पका खाया हुआ हूँ .

नकद जैसा भी नहीं हूँ -
किश्त पर लाया हुआ हूँ .
दूर खुद से भी किया ना -
नाही अपनाया हुआ हूँ .

जिन्दगी लूट सी गयी है
मौत का साया हुआ हूँ .
मैं दिहाड़ी पर नहीं हूँ
सेलरी पाया हुआ हूँ .

मत उलझ सुलझे नहीं
त्रिगुणी माया हुआ हूँ .
शीत में कोहरा घना हूँ
धूप में छाया हुआ हूँ .

No comments:

Post a Comment